close this ads

Top Mandirs

  • Shri Siddheshwar Mahadev Mandir


    Shri Siddheshwar Mahadev Mandir

    The committee created by Kashmiri society has built the श्री सिद्धेश्वर महादेव मंदिर (Shri Siddheshwar Mahadev Mandir) near Central Park in Vaishali.

  • Samor Baba Mandir

    400 years back a symbol of Lord Shiv (Shivling) appear at the bank of Holy Sarovar (water pond) and a temple was built on this place, named as सामौर बाबा मंदिर (Samor Baba Mandir).

  • Bhagwan Vishwakarma Mandir

    भगवान विश्वकर्मा मंदिर (Bhagwan Vishwakarma Mandir) is the initiation point of Indraprastha, the most famous newly constructed city of Mahabharat.

  • Shri Kedar Gouri Temple

    श्री केदार गौरी मंदिर (Shri Kedar Gouri Temple) is the group of two temples Shri Kedareswara Temple and Shri Kedargouri Temple with two holy pond named as Khira Kunda and Marichi Kunda next to the Mukteswar Temple.

  • Shri Mukteswara-Siddheswara Temple

    श्री मुक्तेश्वर-सिद्धेश्वर मंदिर (Shri Mukteswara-Siddheswara Temple) is the group of three temples Parasuramewara Temple, Siddheswara Temple and Mukteswara Temple. Shri Mukteswara Temple is honored as The Gem of Odisha Architecture.

  • Shri Siddheshwar Mahadev Mandir

    With the blessing of Shri Siddheshwar Mahadev Ujjain, devotee of Lord Shiva in Kavi Nagar established श्री सिद्धेश्वर महादेव मंदिर (Shri Siddheshwar Mahadev Mandir).

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

आरती: श्री विश्वकर्मा जी

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु, जय श्री विश्वकर्मा। सकल सृष्टि के करता, रक्षक स्तुति धर्मा॥

मंत्र: णमोकार महामंत्र

णमो अरिहंताणं, णमो सिद्धाणं, णमो आयरियाणं, णमो उवज्झायाणं, णमो लोए सव्व साहूणं।...

ॐ श्री विष्णु मंत्र: मङ्गलम् भगवान विष्णुः!

ॐ नमोः भगवते वासुदेवाय॥ शान्ताकारम् भुजगशयनम्... मङ्गलम् भगवान विष्णुः...

राधा को नाम अनमोल बोलो राधे राधे।

राधा को नाम अनमोल बोलो राधे राधे। श्यामा को नाम अनमोल बोलो राधे राधे॥

मत घबरा मन बावरे...

मत घबरा मन बावरे, है श्याम तेरा रखवाला॥ साथ तुम्हारा कभी ना छोड़े, मोहन मुरली वाला...

भजन: वो काला एक बांसुरी वाला..

वो काला एक बांसुरी वाला, सुध बिसरा गया मोरी रे। माखन चोर वो नंदकिशोर जो...

भजन: श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम!

श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम, लोग करें मीरा को यूँ ही बदनाम साँवरे की बंसी को बजने से काम...

नोएडा के प्रसिद्ध मंदिर!
नोएडा के प्रसिद्ध मंदिर!

नोएडा भारत की धार्मिक आस्था के काफी नजदीक जान पड़ता है, आइए जानते हैं यहाँ के प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में...

धौलपुर के प्रमुख तीर्थ!
धौलपुर के प्रमुख तीर्थ!

मुचुकुन्द शहर की प्रमुख धार्मिक विरासत है, जिसे राजस्थान के पूर्वाचल का पुष्कर भी कहा जाता है। शहर की प्रमुख धार्मिक विरासत के बारे में जानिए..

हस्तिनापुर के प्रमुख मंदिर!
हस्तिनापुर के प्रमुख मंदिर!

आज की भौगोलिक परिस्तिथि के अनुसार हस्तिनापुर मेरठ जिले के अंतर्गत आता है। जानिए हस्तिनापुर के प्रमुख मंदिरों के बारे में...

प्रार्थना: हम को मन की शक्ति देना

हम को मन की शक्ति देना, मन विजय करें। दूसरों की जय से पहले...

ऐ मालिक तेरे बंदे हम!

ऐ मालिक तेरे बंदे हम, ऐसे हो हमारे करम, नेकी पर चले और बदी से टले, ताकी हँसते हुये निकले दम...

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे!

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे, त्वया हिन्दुभूमे सुखं वर्धितोऽहम्।...

ब्रह्मन्! स्वराष्ट्र में हों...

ब्रह्मन्! स्वराष्ट्र में हों, द्विज ब्रह्म तेजधारी। क्षत्रिय महारथी हों, अरिदल विनाशकारी॥...

चालीसा: श्री हनुमान जी

श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि। बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि॥

श्री नवग्रह चालीसा॥

श्री गणपति गुरुपद कमल, प्रेम सहित सिरनाय। नवग्रह चालीसा कहत, शारद होत सहाय॥...

माँ महाकाली - जय काली कंकाल मालिनी!

जय काली कंकाल मालिनी, जय मंगला महाकपालिनी॥ रक्तबीज वधकारिणी माता...

चालीसा: माँ सरस्वती जी।

जनक जननि पद्मरज, निज मस्तक पर धरि। बन्दौं मातु सरस्वती, बुद्धि बल दे दातारि॥

वट सावित्री व्रत कथा।
वट सावित्री व्रत कथा।

भद्र देश के एक राजा थे, जिनका नाम अश्वपति था। भद्र देश के राजा अश्वपति के कोई संतान न थी...

रोहिणी शकट भेदन, दशरथ रचित शनि स्तोत्र कथा!
रोहिणी शकट भेदन, दशरथ रचित शनि स्तोत्र कथा!

प्राचीन काल में दशरथ नामक प्रसिद्ध चक्रवती राजा हुए थे। राजा के कार्य से राज्य की प्रजा सुखी जीवन यापन कर रही थी...

भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण से छूटे भगवान चित्रगुप्त!
भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण से छूटे भगवान चित्रगुप्त!

जब भगवान् राम दशानन रावण को मार कर अयोध्या लौट रहे थे, तब उनके खडाऊं को राजसिंहासन पर रख कर राज्य चला रहे राजा भरत...

जब प्रभु को बाल सफेद करने पड़े!

एक राजा ने भगवान कृष्ण का एक मंदिर बनवाया और पूजा के लिए एक पुजारी को लगा दिया...

प्रेरक कहानी: बिना श्रद्धा और विश्वास के, गंगा स्नान!

इसी दृष्टांत के अनुसार जो लोग बिना श्रद्धा और विश्वास के केवल दंभ के लिए गंगा स्नान करते हैं उन्हें वास्तविक फल नहीं मिलता परंतु इसका यह मतलब नहीं कि गंगा स्नान व्यर्थ जाता है।

जब श्री कृष्ण बोले, मुझे कहीं छुपा लो।

एक बार की बात है कि यशोदा मैया प्रभु श्री कृष्ण के उलाहनों से तंग आ गयीं और छड़ी लेकर श्री कृष्ण की ओर दौड़ी।...

श्री शनि अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली

ॐ शनैश्चराय नमः॥ ॐ शान्ताय नमः॥ ॐ सर्वाभीष्टप्रदायिने नमः॥ ॐ शरण्याय नमः॥ ॐ वरेण्याय नमः॥

श्री शनैश्चर सहस्रनाम वली

ॐ अमिताभाषिणे नमः। ॐ अघहराय नमः। ॐ अशेषदुरितापहाय नमः।...

दशरथकृत शनि स्तोत्र

नम: कृष्णाय नीलाय शितिकण्ठ निभाय च। नम: कालाग्निरूपाय कृतान्ताय च वै नम:॥

श्री महासरस्वती सहस्रनाम स्तोत्रम्!

ध्यानम्: श्रीमच्चन्दनचर्चितोज्ज्वलवपुः शुक्लाम्बरा मल्लिका-मालालालित...

^
top